तंबाकू के सेवन से हर साल मरते हैं 80 लाख लोग

मुरादाबाद। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार दुनियाभर में हर साल करीब 80 लाख लोग तंबाकू के कारण होने वाले जानलेवा रोगों का शिकार होते हैं और मौत के मुंह में चले जाते हैं. तंबाकू और इसके सेवन से होने वाले घातक परिणामों के प्रति लोगों को जागरुक करने के लिए हर साल 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World No Tabacco Day) मनाया जाता है.

टिमिट परिसर में भी इस संदर्भ में काॅलेज आॅफ मैनेजमेंट एवं काॅलेज आॅफ लीगल स्टडीज के छात्रों ने संगोष्ठी का आयोजन किया जिसका मुख्य उद्देश्य छात्रों को तंबाकू के दुष्प्रभाव के बारे में जागृत करना था एवं समाज को एक संदेश देना था कि अगर हमें अपने जीवन को बचाना है तो तंबाकू उपयोग को निषेध करना जरूरी है विभिन्न छात्रों द्वारा रखे गए भिन्न-भिन्न विचारों का मुख्य अभिप्राय कुछ इस प्रकार रहा स्मोकिंग और तंबाकू के सेवन से दिल की बीमारी होने का खतरा दो से चार गुना तक बढ़ जाता है.

सिगरेट तो व्यक्ति के मस्तिष्क को प्रभावित करती है. इसके कारण डिमेंशिया या अल्जाइमर जैसे रोग होने की आशंका काफी बढ़ जाती है. इसके अलावा ये महिलाओं की प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करती है.

टिमिट के प्रिंसिपल प्रोफेसर विपिन जैन ने अपने उद्बोधन में कहा हर साल 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस के रूप में मनाया जाता है. इसका उद्देश्य लोगों को तंबाकू के कारण होने वाले घातक परिणामों के प्रति जागरुक करना और इसके कारण होने वाली बीमारियों व मौतों को कम करना है। अंत में प्रोफेसर जैन ने विभिन्न कार्यक्रम को आयोजित करने वाले शिक्षकों का आभार व्यक्त किया एवं छात्रों को भविष्य में किसी भी तरीके के तंबाकू उत्पाद के उपयोग को नहीं करने की शपथ दिलाई।