ज्ञानवापी मस्जिद प्रकरण में यह क्या कह दिया सपा नेत्री रुबीना खानम ने

अलीगढ़। अपने विवादित बयानों से सुर्खियों में रहने वाली समाजवादी पार्टी की नेता रुबीना खानम ने ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर एक नया बयान दिया है. एक वीडियो जारी कर रुबीना ने ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर कहा है कि यदि यह साबित हो जाता है कि वहां पर मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई गई थी तो हमारे कौम को उस जमीन को हिंदू भाइयों को दे देना चाहिए।

रुबीना ने इससे पहले हिजाब को लेकर भी बयान दिया था कि, यदि कोई हमारे हिजाब पर हाथ डालेगा तो उसके हाथ काट दिए जाएंगे. दूसरा बयान रुबीना ने लाउडस्पीकर को लेकर कहा था कि मुसलमान समुदाय को छेड़ने की कोशिश ना करें, अगर ऐसा हुआ तो हम महिलाएं मंदिरों के बाहर बैठकर लाउडस्पीकर पर कुरान का पाठ करेंगे।

इस पर रुबीना के खिलाफ थाना सिविल लाइन में मामला दर्ज हुआ था. रुबीना ने ज्ञानवापी को लेकर नया वीडियो जारी किया है. रुबीना ने वीडियो जारी कर कहा कि आजकल जो यह ज्ञानवापी मस्जिद का मसला चल रहा है, यह मामला बहुत ज्यादा चारों तरफ फैला है कि ज्ञानवापी मस्जिद नहीं है वहां प्राचीन काल में मंदिर था।

रुबीना ने आगे कहा, ‘मैं मानती हूं इस मामले में हिंदू पक्ष जो दावा कर रहा है कि ज्ञानवापी मस्जिद प्राचीन काल में मंदिर था और किसी शासक ने बलपूर्वक इस मंदिर को तोड़कर वहां पर मस्जिद बनाई थी. अगर यह साबित हो जाता है तो हमारे मुस्लिम समाज, धर्म गुरु, उलेमा को जमीन हिंदू पक्ष को वापस दे देनी चाहिए’।

सपा नेत्री रुबीना ने कहा, ‘हमारे मुस्लिम समाज को, उलेमाओं को, धर्म गुरुओं को समझनी चाहिए कि किसी भी कब्जा की हुई जमीन पर, किसी भी छीनी हुई जमीन पर बलपूर्वक कब्जा किया गया है तो हमारे इस्लाम में वहां पर नमाज पढ़ना हराम है. इसलिए अगर यह बात साबित होती है तो जमीन को हिंदू पक्ष को वापस कर दें’।

हालांकि रुबीना ने भारत सरकार से मांग की कि इसकी सुप्रीम कोर्ट के जरिए उच्च स्तरीय तरीके से जांच कराई जाए और यह दावा सही निकलता है तो जमीन हिंदू पक्ष को जानी चाहिए और अगर ये दावा गलत निकलता है तो फिर हिंदू पक्ष को शांतिपूर्ण तरीके से यह दावा छोड़ना होगा, और ये जमीन मुसलमानों को मस्जिद के लिए वापस देना चाहिए।