बांग्लादेश के ढाका के बाद भारत के मुरादाबाद में सबसे ज्यादा से शोर

यूएनईपी का कहना है कम से कम 13 दक्षिण एशियाई शहर अत्यधिक ध्वनि प्रदूषित हैं, जिनमें से पांच भारत में हैं। संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूएनईपी) की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार, उत्तर प्रदेश का मुरादाबाद शहर विश्व स्तर पर दूसरा सबसे अधिक ध्वनि प्रदूषित शहर है। मुरादाबाद में अधिकतम 114 डेसिबल (डीबी) ध्वनि प्रदूषण दर्ज किया गया है। फ्रंटियर 2022 रिपोर्ट में कुल 61 शहरों का उल्लेख है। बांग्लादेश की राजधानी ढाका में सबसे ज्यादा 119 डीबी का ध्वनि प्रदूषण दर्ज किया गया है। तीसरे स्थान पर पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद है, जहां ध्वनि प्रदूषण का स्तर 105 डीबी दर्ज किया गया है।

रिपोर्ट में दक्षिण एशिया के 13 ध्वनि प्रदूषित शहरों की पहचान की गई है। मुरादाबाद सहित इनमें से पांच भारत में हैं, जिन्होंने ध्वनि प्रदूषण के खतरनाक स्तर दर्ज किए हैं: कोलकाता (89 डीबी) आसनसोल (89 डीबी) जयपुर (84 डीबी) दिल्ली (83 डीबी) रिपोर्ट में दिए गए ध्वनि प्रदूषण के आंकड़े दिन के समय यातायात या वाहनों से संबंधित हैं। 70 डीबी से अधिक आवृत्ति वाली ध्वनियां स्वास्थ्य के लिए हानिकारक मानी जाती हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने 1999 के दिशानिर्देशों में आवासीय क्षेत्रों के लिए 55 डीबी मानक की सिफारिश की थी, जबकि यातायात और व्यावसायिक क्षेत्रों के लिए यह सीमा 70 डीबी थी।