20 करोड़ और खुराक के साथ भारत बायोटेक बढ़ाएगा कोवैक्सीन का उत्पादन

कोरोना महामारी से निपटने के लिए देश में वैक्सीन उत्पादन बढ़ाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। इसी के तहत अब भारत बायोटेक कंपनी ने अपनी वैक्सीन का तेजी से उत्पादन बढ़ाने का निर्णय लिया है। कंपनी अब गुजरात के अंकलेश्वर में भी वैक्सीन का उत्पादन शुरू करने जा रही है।

अंकलेश्वर स्थित कंपनी की सहायक कंपनी में होगा उत्पादन
भारत बायोटेक की सह-संस्थापक और जेएमडी सुचित्रा एल्ला ने एक ट्वीट में यह जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि अंकलेश्वर स्थित कंपनी की सहायक कंपनी चिरोन बेहरिंग में वैक्सीन का उत्पादन शुरू करेगी। जून के पहले सप्ताह से फॉर्म्युलेशन और पैकिंग की प्रक्रिया शुरू हो सकती है। उन्होंने बताया कि कंपनी की टू-लाइन प्रोडक्शन प्रक्रिया भी जल्द शुरू होगी।

https://twitter.com/SuchitraElla/status/1395395197501009921?s=20

20
करोड़ खुराक का उत्पादन करने की क्षमता
अंकलेश्वर स्थित सहायक चिरोन बेहरिंग कंपनी की वैक्सीन की सालाना 20 करोड़ खुराक का उत्पादन करने की क्षमता है। चिरोन यूनिट अपने यहां होने वाले खरगोशों के टीकों का उत्पादन रोककर, कोरोना वैक्सीन का उत्पादन शुरू करेगी।

गौरतलब हो कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए इस देश में दो कंपनियां ही कोरोना वैक्सीन का उत्पादन कर रही हैं। इनमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कंपनी कोविशील्ड और भारत बायोटेक कंपनी कोवैक्सीन नाम से वैक्सीन का उत्पादन कर रही हैं। देश में वैक्सीन उत्पादन की मांग बढ़ रही है। बायोटेक कंपनी का अंकलेश्वर में अपनी सहायक कंपनी के साथ मिलकर वैक्सीन का उत्पादन करना एक अच्छा संकेत माना जा रहा है।