टीएमयू एफओईसीएस ने प्लेसमेंट में मारी हॉफ सेंचुरी

ख़ास बातें

चयनित होने वालों में एफओईसीएस के 36 छात्र और 14 छात्राएं शामिल

आकर्षक पैकेज पर कंपनी की ओर से मिला ऑफर लेटर तो मुस्कुराए

बीटेक-सीएस, बीटेक-ईसी प्रोग्राम्स के छात्र-छात्राएं प्लेसमेंट में शुमार

बीएससी ऑनर्स-सीएस, बीसीए और एमसीए के स्टुडेंट्स ने भी मारी बाजी

 

 

मुरादाबाद। तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के फैकल्टी ऑफ इंजीनियरिंग एंड कम्प्यूटिंग साइंसेज-एफओईसीएस ने फिर इतिहास रचा है। एफओईसीएस ने अपना ही रिकॉर्ड तोड़ते हुए देश की नामचीन कंपनी अपरेक्स्ट सॉल्यूशन्स में बतौर प्लेसमेंट हॉफ सेंचुरी लगाई है। आपको यह जानकर हैरत के संग-संग खुशी भी होगी, 50 स्टुडेंट्स का एक साथ एक ही कंपनी में सलेक्शन हुआ है। एफओईसीएस के लिए इस सत्र की यह स्वर्णिम उपलब्धि है। चयन होने वालों में यूपी, उत्तराखंड, राजस्थान, दिल्ली, मध्यप्रदेश, पश्चिम बंगाल, झारखंड, असम, बिहार के छात्र-छात्राएं शामिल हैं। एफओईसीएस की इस बड़ी उपलब्धि से गदगद कुलाधिपति श्री सुरेश जैन, जीवीसी श्री मनीष जैन, एमजीबी श्री अक्षत जैन और वीसी प्रो. रघुवीर सिंह कहते हैं, हमें न केवल एफओईसीएस के स्टुडेंट्स बल्कि प्राचार्य एवम् निदेशक प्रो. आरके द्विवेदी पर भी नाज़ है। निदेशक प्रो. द्विवेदी इस पूल ड्राइव का श्रेय टीएमयू के कुलाधिपति, जीवीसी, एमजीबी आदि की डायनामिक लीडरशिप और ग्रेट विजनरी को देते हैं। साथ ही संकल्प दुहराते हैं, हम स्टुडेंट्स के सर्वांगीण विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं।

 

दिल्ली की कंपनी- अपरेक्स्ट सॉल्यूशन्स में चयनित होने वालों में एफओईसीएस के 36 छात्र और 14 छात्राएं शामिल हैं। इनके चेहरे खिले हैं, क्यांेकि आकर्षक पैकेज पर कंपनी की ओर से इन सभी को ऑफर लेटर भी मिल गए हैं। बीटेक-सीएस, बीटेक-ईसी, बीएससी ऑनर्स-सीएस, बीसीए और एमसीए प्रोग्राम्स के छात्र-छात्राएं इस प्लेसमेंट में शुमार हैं। प्रो. द्विवेदी कहते हैं, हम स्टडी के संग-संग छात्रों को गहन तकनीकी प्रशिक्षण भी देते हैं। इस दौरान देश की जानी-मानी उद्योग जगत की हस्तियां कैंपस का विजिट करती हैं। वैश्विक तकनीकी बदलाव पर हमारी पैनी नजर रहती है। इसी के मुताबिक हम अपने छात्रों को ढालते हैं। असिस्टेंट डायरेक्टर प्लेसमेंट एवम् ट्रेनिंग श्री विक्रम रैना कहते हैं, हमारे छात्रों को कैंपस में ही हमेशा प्रतिस्पर्धी माहौल मिल जाता है। उन्होंने स्मार्ट इंडिया हैकाथॉन, हैकर रैंक, गीक फॉर गीक्स चैलेंज, हैकर अर्थ, किक स्टार्ट गूगल कोडिंग चैलेंज, टॉप कॉडर सरीखी तकनीकी गतिविधियों का जिक्र करते हुए कहा, ये प्रतियोगिताएं स्टुडेंट्स के करियर में मील का पत्थर साबित होती हैं। बीटेक सीएस को-आर्डिनेटर श्री रूपल गुप्ता और ह्यूमैनिटीज् डिपार्टमेंट के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. संदीप वर्मा कहते हैं, प्लेसमेंट के लिए न केवल हम शॉर्ट टर्म कोर्सेज कराते हैं बल्कि टाइम टू टाइम इंडस्ट्रीयल विजिट भी कराते हैं। टीचिंग लर्निंग प्रोसेस को हमने प्रोजेक्ट बेस्ड लर्निंग के साथ डिजाइन किया हुआ है। प्लेसमेंट में ये सभी स्टेप्स हमारे छात्र-छात्राओं के लिए वरदान साबित हो रहे हैं। डॉ. वर्मा बताते हैं, स्टुडेंट्स की एम्प्लॉयबिलिटी स्किल्स विकसित करने के लिए ह्यूमैनिटीज् की मुकम्मल अनुभवी टीम समर्पित है। यह टीम इंग्लिश कम्युनिकेशन के साथ-साथ स्टुडेंट्स के व्यक्तित्व विकास- प्रेजेंटेशन स्किल्स, इंटरव्यू स्किल्स, जीडी इत्यादि के प्रशिक्षण के प्रति भी संजीदा है।