काले हिरण के शिकारियों ने तीन पुलिसकर्मियों की गोलियों से भूनकर हत्या की

मध्यप्रदेश के गुना में तीन पुलिसकर्मियों की गोलियों से भूनकर हत्या की गयी , पुलिस के हथियार भी लूटे , काले हिरण के शिकारियों ने घटना को अंजाम दिया। कुल 7 शिकारी थे। एक क्रॉस फायरिंग में मारा गया। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने की घटना की निंदा की। डीजीपी ने पुलिस टीमों का गठन करके आरोपियों की तलाश के लिए लगाया।

मध्य प्रदेश के गुना में शिकारियों की गोलीबारी में शहीद हुए तीनों पुलिसकर्मियों के परिजनों को एक-एक करोड़ रुपए दिए जाएंगे। उनके अंतिम संस्कार में भी जिलों के प्रभारी मंत्री शामिल होंगे। वहीं, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस मामले में कड़ा एक्शन लेते हुए ग्वालियर IG अनिल शर्मा को तत्काल प्रभाव से हटा दिया है। संभाग के आईजी पर घटनास्थल पर देरी से पहुंचे थे।

इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना को लेकर CM शिवराज सिंह चौहान ने अपने आवाज आज सुबह हाईलेवल इमरजेंसी मीटिंग बुलाई। इसमें गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा, मुख्य सचिव, डीजीपी, एडीजी समेत बड़े पुलिस अधिकारी शामिल रहे।

CM शिवराज ने कहा, गुना में शिकारियों का मुकाबला करते हुए हमारे पुलिस के जवानों ने शहादत दी है। अपराधियों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई होगी, जो इतिहास में उदाहरण बनेगी। अपराधियों की लगभग पहचान हो गई. जांच चल रही है। पुलिस फोर्स को भेजा गया है। अपराधी किसी भी कीमत पर नहीं बचेंगे।

उधर, जिला प्रशासन ने आरोपियों के घर नोटिस चस्पा कर दिए गए हैं। मृतक नौशाद के घर भी प्रशासन का नोटिस लगा दिया गया है। कुछ देर में आरोपी का घर तोड़ा जाएगा। वहीं, गांव के ही तीन आरोपियों के घर चल बुलडोजर चलाया जा रहा है। यह सभी हत्याकांड के बाद से फरार हैं।

मध्य प्रदेश के गुना में पुलिस और काले हिरण के शिकारियों के बीच भीषण मुठभेड़ हुई है, जिसमें तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई. मृतकों में SI राजकुमार जाटव, आरक्षक नीरज भार्गव और आरक्षक संतराम शामिल हैं. बदमाश काले हिरण और मोर को मारकर ले जा रहे थे. दाएं शहीद SI राजकुमार जाटव और बाएं मौके पर पुलिस अफसर.